• slidebg1
  • darkblurbg

WElCOME TO Swarnim Foundation

स्वर्णिम फाउंडेशन एक समाज सेवी एवं स्वयं सेवी संस्था है| जो गत 3 वर्षो से सामाजिक कार्यो में लगी है| स्वर्णिम फाउंडेशन समाज के कई बुद्धिजीवियों द्वारा बनाई गई संस्था है| सरकार की कई योजनाएँ धरातल स्तर पर काम तो कर रही है फिर भी यह कम पड़ रही है| यह संस्था तीन वर्षों से नारी सशक्तिकरण पर जो कार्य किया है और कर रही है, यह काफी सराहनीय है|

  • अभी लगभग 700 (सात सौ) बालिकाओं और महिलाओं को संस्था द्वारा आत्मनिर्भर बनाने का कार्य किया जा चुका है| यहाँ बालिकाएं और महिलाएं सिलाई, कढाई एवं ब्यूटी पार्लर का हुनर सिख कर अपने पैरो पर खडी हो चुकी है|
  • यह संस्था अभी तक कई प्रखंडो में वृक्षारोपण का कार्य कर चुकी है| जो पर्यावरण के संतुलन के लिए काफी उपयोगी है|
  • यह संस्था अभी तक कई प्रखंडो में HIV / AIDS पर कई कार्यक्रम आयोजित कर HIV/AIDS के प्रति जागरूक कर चुकी है|
  • यह संस्था Woman and Child Care Development Training Program जो (नि: शुल्क) लगभग 700 महिलाओं को दिया जा चुका है साथ ही प्रमाण पत्र भी वितरण कर चुकी है|
  • यह संस्था स्वास्थ एवं स्व्च्छता पर भी काम किया है और कर रही है| घर घर शौचालय निर्माण पर काफी जोर देकर और लोगो को उत्साहित कर शौचालय बनाने एवं प्रयोग कर रोगों को दूर करने का उपाय की जानकारी देती रही है|
  • बालिकाओं और महिलाओं को मेहदी, बुटीक, बुके बनाने का प्रशिक्षण दिया जा चुका है| इन प्रक्षिक्षण को सीख कर आत्मनिर्भर बनी जिसमे सिलाई सेंटर, अपना ब्यूटी पार्लर , अपना बुटीक तथा अन्य प्रकार से भी इस प्रशिक्षण का लाभ उठा रही हैं|
  • DMKVY प्रोग्राम, ग्रामीण फाउंडेशन पटना के साथ मिलकर काम कर चुकी है| साथ ही NDLM का प्रोग्राम, Unique Creative Educational Society, समस्तीपुर के साथ किया है|

हमारा उद्देश्य

सरकार द्वारा कई योजनाएँ तो चलाये जा रहे हैं मगर सरकार के अन्यक प्रयासो के बावजुद भी कई कई योजनाएँ पुरी तरह धरातल पर कारगर नहीं हो पा रही है| इसके कई कारण है और कई कारण हो सकते हैं| किसी कारण को गिनती कराना हमारा मकसद नहीं है| हमारा लक्ष्य सिर्फ यही है कि हमारा समाज और हमारा देश उन्नती करे| इसके लिए हमें सबसे अंतिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति से एवं उसके परिवार से शुरुआत करनी होगी| हम्रारे समाज को क्या चाहिए, हमारे समाज में क्या क्या परेशानिया हैं| शिक्षा का महत्व घर घर तक कितना पंहुच पाया, घर घर की महिलाए कितनी आत्म निर्भर बनी है, स्वास्थ के क्षेत्र में इसकी क्या क्या जानकारियां हैं और क्या क्या कमियाँ हैं| हमारे समाज की किशोरियाँ अपने आप को किन परिस्तिथियों में पाती हैं| किशोरियों को अपने आप की क्या क्या जानकारियाँ होनी चाहिए|

इस सभी बिन्दुओं पर हमारी संस्था ने गंभीर सोच के बाद फ़िलहाल दो मुद्दों पर काम करने का निश्चय किया है|

 

 

  किशोरी उत्थान केंद्र

 

11-18 आयु वर्ग की किशोरियों के पोषण, स्वास्थ, शिक्षा एवं आर्थिक स्थिति में सुधार लाने हेतु, उनका सशक्तिकरण, मातृत्व एवं शिशु मृत्यु दर में कमी, कुपोषण स्तर में सुधार करना, साथ ही इनको आत्मनिर्भर बनाने हेतु व्यवसायिक प्रशिक्षण देकर स्वरोजगार के प्रति स्वालंबी बनाना, साथ ही 15-18 वर्ष की ऐसी किशोरियाँ जो विघालय जाती है और ऐसी किशोरियाँ जो विघालय नहीं जाती है, इन दोनों वर्ग के किशोरियों को आत्मनिर्भर बनाने हेतु व्यवसायिक प्रशिक्षण देकर स्वालंबी बनाना है|

साथ ही किशोरियों में कई तरह के बदलाव की जानकारी देना| जो किशोरियों को घर परिवार में संकुचित सोच के कारण माता – पिता नही दे पाते हैं| जिनके परिणाम बाद में किशोरियों को भुगतना पड़ता है| साथ ही स्वास्थ एवं स्वच्छता की जानकारी, स्वास्थ एवं पोषण, एनीमिया, माहवारी, गर्भधारण, जीवन कौशल, प्राथमिक उपचार, विवाह एवं परिवार के उत्तरदायित्व, मातृत्व सुरक्षा, टीका करण, स्तनपान के लाभ, अन्य कई बिन्दुओं पर गंभीर रूप से सही सही जानकारी देना काफी महत्वपूर्ण है| जब किशोरियों को इनकी सही जानकारी होगी फिर यह सभी अच्छी पत्नी, बेटी, माँ बनकर समाज को आगे ले जा सकती है| हमारी संस्था स्वणिर्म फाउंडेशन ने इस कार्यक्रम को किशोरी उत्थान केंद्र के नाम से चलाने की योजना बनाई है | जबकि सरकार द्वारा सबला योजना आगन बाड़ी केन्द्रों पर भी चलायी जा रही है मगर धरातल पर यह योजना उतर नही पाई | आगे पढ़े »

 

  स्वर्णिम स्वास्थ्य केंद्र हेतु बैठक

 

सरकार द्वारा शहरोँ से लेकर गाँव तक हर जगह प्राथमिक स्वास्थ केन्द्र, प्राथमिक उपकेन्द्र, प्रखण्ड स्तर पर अस्पताल, शहरी स्तर पर बड़े बड़े अस्पताल चलते रहने के बावजूद गाँव के गाँव हर प्रकार की बीमारीयों से लोग परेशान है|

एक गाँव या शहर के गरीब लोगो के पास दवाई खरीदनें के लिये कुछ पैसे तो हो जाते है मगर डॉक्टर के फीस के पैसे नही होते, खून आदि जाँच के पैसे नही होते| हमारी संस्था स्वर्णिम फाउंडेशन की सोच है कि हम सभी ग्रामीण, शहरी क्षेत्रों के लोगो को नि:शुल्क डॉक्टर मुहैया करवा देना साथ ही हर तरह की जाँच, दवाई की व्यवस्था कम खर्च में उपलब्ध करवा देना है, ताकि हमारा समाज स्वस्थ समाज बने|

 

हम सभी भारतवासियों से अनुरोध करते हैं कि आप हमारी संस्था को दान, अनुदान, चंदा से मदद करें ताकि हमारी संस्था इन कार्यो को सफलता पूर्वक कर सके| आगे आने वाले दिनों में कई और योजनायें युवा वर्ग के लिए हैं| कई ट्रेनिंग प्रोग्राम नि:शुल्क करने का प्रयास हमारी संस्था करेगी| First Aid, Nursing, Beauty Parlour, Tailoring आदि कई कार्यक्रमो की योजना है| दान दे, अनुदान दें और देश एवं समाज की मदद करें| कल हमारा ही देश, समाज स्वस्थ एवं समृद्ध होगा|